Friday, September 9, 2011

including today in particular for Shams, who celebrates her birthday tomorrow the 9th . Happy birthday Shams


Jalsa , Mumbai     Sept  8 , 2011      Thu  11 : 30 PM
Was to work today … cancellation .. and another off day to recover from ailment … but work just springs out of the woodwork and BAM ! .. before long we are in the thick of it, not knowing when it all began and when it shall end ..
Shobhaa De, the eminent writer and columnist, sent across a gentle lady to take my views on ’sanskaar’ and its power in the lives of us as Indians. How does one really begin to describe what ’sanskaar’ means to an audience that does not understand the language. I have no word for it in the language that you now read … I know that I was fortunate to have possessed the virtues of ’sanskaar’ from my family and I hope and pray that generations after me shall, within the family, continue with them.
I am asked how does one develop them, where did they go with the present generation, have we lost them in changing times, how important are they to us in our social standing. I have nowhere to go to explain such questioning. I have not deliberately been given lessons on the subject and neither has there been a concerted effort by anyone, particularly my parents and family, to formally teach me what this aspect of living was all about. But … I observed that when elders entered the room, the young stood up in respect. I observed that the heads of family and those that were given honor and pride of place were the ones that you with regard and servility, touched their feet for their blessings. In a restaurant with my Mother for coffee, I was corrected by her when I stared at an outsider unknown, with more than deliberate intent. A fleeting glance was considered a more aesthetic manner of behavior. I noticed that the ‘ji’ was to be more respectful than a ‘tu’ .. though in some languages of the country the ‘tu’ is considered a more endearing term.
Opening doors for ladies, ushering them on before you, pulling out their chairs and seating them at tables, sitting down after they were seated .. were perhaps more to do with manners and perhaps a kind of discipline that we were initiated into, but does it come under the realm of ’sanskaar’ …? I wonder !
A well mannered attitude was considered as possessing a good ’sanskaar’. How one behaved in public, how one delivered within the morals of agreeable society, was more to do with ‘in possession of good sanskaar’.
I cannot put my finger to a moment when I was taught it - sanskaar ! It was something that simply one acquired over time. Something that was unspoken and unsaid yet said and spoken of. You either had it or you did not. If I am responding to the sms or messages on the mobile and the laptop with a certain degree of promptness, it may not be considered as an act of correctness and discipline, but certainly would go down in the mind of the receiver as an act that emanates from ‘achche sanskaar’.
If I have spoken or written about incidents that have been memorable and of relevance to me in this blog, and they have found some patronage among a few, it is not coming from ’sanskaar’. It is what I picked up from my Father or Mother as a lesson to learn from. To equate it to ’sanskaar’ would not entirely be correct. That I have felt the lesson important enough to work by it and abide with it, could well be termed as one that has a certain ’sanskaar’.
There is however a concern about the changing trends in our society. The oft repeated refrain is, that this generation has not kept up the ’sanskaar’ they should have. Maybe maybe not. Each generation has its own view point and morals and methods of what it thinks to be morally right. They may not agree with mine, but I would, if ever I were to be confronted, give reasonable license to cover the decade change that we have now come to accept. Provided those that asked for it came forward for it in the spirit of understanding and more importantly understood the lasting fact that liberations in behavior does not give them the license to compromise with their ’sanskaar’.
There may be reasonable argument against this as well. Fair enough. But that is the precise understanding that I talk of. Each parent may have a different point of view. And if they are liberal enough to accept the natural change in the decade, then they must also accept the natural exigencies that may occur with the generation that has just stepped into a world where they may not be too willing to accept what has remained with them in the past. Change is a natural equation for progress and development. Not just in the material sense, but also in the manner in which life conducts itself. Yes the youth shall bring about another aspect and we must learn to respect that, but within the boundaries of a ’sanskaar’ that was imbedded in us as the young. Those shall remain - should remain !!
You are polite and generous to the contestants that arrive on the HotSeat in KBC ! Yes I am ! I am so because to me my little technologically proficient region of the KBC set is my home. When you come and sit by me you have entered my home and I shall treat you with the politeness and generosity that I would any other that would come to Jalsa. This is not habit or good manners, well maybe it is, but ideally it would be referred to as being in possession of good ’sanskaar’.
My genetic body tells me to rest now … my mind wishes to stay back with you …’sanskaar’ does not come in here. But if I were to end today by not acknowledging your presence and wishing you well, it would go down as not ‘having good sanskaar’ …
Good night then and may all of you be safe and well looked after … including today in particular for Shams, who celebrates her birthday tomorrow the 9th . Happy birthday Shams … and may you continue to be your delightful self as ever !!! Love
Amitabh Bachchan

3 comments:

  1. sir, i need ur support for a noble purpose. sir i hav created a blog, want u to go through it. and if u feel its good then plz promote.
    with love
    sonu reiki

    ReplyDelete
  2. आप को सूचित करते हुवे हर्ष हो रहा है क़ि आगामी शैक्षणिक वर्ष २०११-२०१२ के दिसम्बर माह में ०९--१० दिसम्बर (शुक्रवार -शनिवार ) को ''हिंदी ब्लागिंग : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाएं '' इस विषय पर दो दिवशीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की जा रही है. विश्विद्यालय अनुदान आयोग द्वारा इस संगोष्ठी को संपोषित किया जा सके इस सन्दर्भ में औपचारिकतायें पूरी की जा चुकी हैं. के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय के हिंदी विभाग द्वारा आयोजन की जिम्मेदारी ली गयी है. महाविद्यालय के प्रबन्धन समिति ने संभावित संगोष्ठी के पूरे खर्च को उठाने की जिम्मेदारी ली है. यदि किसी कारणवश कतिपय संस्थानों से आर्थिक मदद नहीं मिल पाई तो भी यह आयोजन महाविद्यालय अपने खर्च पर करेगा.

    संगोष्ठी की तारीख भी निश्चित हो गई है (०९ -१० दिसम्बर२०११ ) संगोष्ठी में आप की सक्रीय सहभागिता जरूरी है. दरअसल संगोष्ठी के दिन उदघाटन समारोह में हिंदी ब्लागगिंग पर एक पुस्तक के लोकार्पण क़ी योजना भी है. आप लोगों द्वारा भेजे गए आलेखों को ही पुस्तकाकार रूप में प्रकाशित किया जायेगा . आप सभी से अनुरोध है क़ि आप अपने आलेख जल्द से जल्द भेजने क़ी कृपा करें . आलेख भेजने की अंतिम तारीख २५ सितम्बर २०११ है. मूल विषय है-''हिंदी ब्लागिंग: स्वरूप,व्याप्ति और संभावनाएं ''
    आप इस मूल विषय से जुड़कर अपनी सुविधा के अनुसार उप विषय चुन सकते हैं

    जैसे क़ि ----------------
    १- हिंदी ब्लागिंग का इतिहास

    २- हिंदी ब्लागिंग का प्रारंभिक स्वरूप

    ३- हिंदी ब्लागिंग और तकनीकी समस्याएँ
    ४-हिंदी ब्लागिंग और हिंदी साहित्य

    ५-हिंदी के प्रचार -प्रसार में हिंदी ब्लागिंग का योगदान

    ६-हिंदी अध्ययन -अध्यापन में ब्लागिंग क़ी उपयोगिता

    ७- हिंदी टंकण : समस्याएँ और निराकरण
    ८-हिंदी ब्लागिंग का अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

    ९-हिंदी के साहित्यिक ब्लॉग
    १०-विज्ञानं और प्रोद्योगिकी से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    ११- स्त्री विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    १२-आदिवासी विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    १३-दलित विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग
    १४- मीडिया और समाचारों से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग
    १५- हिंदी ब्लागिंग के माध्यम से धनोपार्जन

    १६-हिंदी ब्लागिंग से जुड़ने के तरीके
    १७-हिंदी ब्लागिंग का वर्तमान परिदृश्य
    १८- हिंदी ब्लागिंग का भविष्य

    १९-हिंदी के श्रेष्ठ ब्लागर

    २०-हिंदी तर विषयों से हिंदी ब्लागिंग का सम्बन्ध
    २१- विभिन्न साहित्यिक विधाओं से सम्बंधित हिंदी ब्लाग
    २२- हिंदी ब्लागिंग में सहायक तकनीकें
    २३- हिंदी ब्लागिंग और कॉपी राइट कानून

    २४- हिंदी ब्लागिंग और आलोचना
    २५-हिंदी ब्लागिंग और साइबर ला
    २६-हिंदी ब्लागिंग और आचार संहिता का प्रश्न
    २७-हिंदी ब्लागिंग के लिए निर्धारित मूल्यों क़ी आवश्यकता
    २८-हिंदी और भारतीय भाषाओं में ब्लागिंग का तुलनात्मक अध्ययन
    २९-अंग्रेजी के मुकाबले हिंदी ब्लागिंग क़ी वर्तमान स्थिति

    ३०-हिंदी साहित्य और भाषा पर ब्लागिंग का प्रभाव

    ३१- हिंदी ब्लागिंग के माध्यम से रोजगार क़ी संभावनाएं
    ३२- हिंदी ब्लागिंग से सम्बंधित गजेट /स्वाफ्ट वयेर


    ३३- हिंदी ब्लाग्स पर उपलब्ध जानकारी कितनी विश्वसनीय ?

    ३४-हिंदी ब्लागिंग : एक प्रोद्योगिकी सापेक्ष विकास यात्रा

    ३५- डायरी विधा बनाम हिंदी ब्लागिंग

    ३६-हिंदी ब्लागिंग और व्यक्तिगत पत्रकारिता

    ३७-वेब पत्रकारिता में हिंदी ब्लागिंग का स्थान

    ३८- पत्रकारिता और ब्लागिंग का सम्बन्ध
    ३९- क्या ब्लागिंग को साहित्यिक विधा माना जा सकता है ?
    ४०-सामाजिक सरोकारों से जुड़े हिंदी ब्लाग

    ४१-हिंदी ब्लागिंग और प्रवासी भारतीय


    आप सभी के सहयोग क़ी आवश्यकता है . अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें



    डॉ. मनीष कुमार मिश्रा
    हिंदी विभाग के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय

    गांधारी विलेज , पडघा रोड
    कल्याण -पश्चिम, ,जिला-ठाणे
    pin.421301

    महाराष्ट्र
    mo-09324790726
    manishmuntazir@gmail.com
    http://www.onlinehindijournal.blogspot.com/
    http://kmagrawalcollege.org/

    ReplyDelete
  3. respected amit ji,
    i am organizing two days national seminar on hindi blogging in december 2011 at kalyan, maharashtra.
    you are the most famous blogger of hindi. we are a small organisation , we can not dare to invite you in the same seminar.
    sir, if possible then kindly send your article or message for this blogging seminar.
    मूल विषय है-''हिंदी ब्लागिंग: स्वरूप,व्याप्ति और संभावनाएं ''
    आप इस मूल विषय से जुड़कर अपनी सुविधा के अनुसार उप विषय चुन सकते हैं

    जैसे क़ि ----------------
    १- हिंदी ब्लागिंग का इतिहास

    २- हिंदी ब्लागिंग का प्रारंभिक स्वरूप

    ३- हिंदी ब्लागिंग और तकनीकी समस्याएँ
    ४-हिंदी ब्लागिंग और हिंदी साहित्य

    ५-हिंदी के प्रचार -प्रसार में हिंदी ब्लागिंग का योगदान

    ६-हिंदी अध्ययन -अध्यापन में ब्लागिंग क़ी उपयोगिता

    ७- हिंदी टंकण : समस्याएँ और निराकरण
    ८-हिंदी ब्लागिंग का अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

    ९-हिंदी के साहित्यिक ब्लॉग
    १०-विज्ञानं और प्रोद्योगिकी से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    ११- स्त्री विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    १२-आदिवासी विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग

    १३-दलित विमर्श से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग
    १४- मीडिया और समाचारों से सम्बंधित हिंदी ब्लॉग
    १५- हिंदी ब्लागिंग के माध्यम से धनोपार्जन

    १६-हिंदी ब्लागिंग से जुड़ने के तरीके
    १७-हिंदी ब्लागिंग का वर्तमान परिदृश्य
    १८- हिंदी ब्लागिंग का भविष्य

    १९-हिंदी के श्रेष्ठ ब्लागर

    २०-हिंदी तर विषयों से हिंदी ब्लागिंग का सम्बन्ध
    २१- विभिन्न साहित्यिक विधाओं से सम्बंधित हिंदी ब्लाग
    २२- हिंदी ब्लागिंग में सहायक तकनीकें
    २३- हिंदी ब्लागिंग और कॉपी राइट कानून

    २४- हिंदी ब्लागिंग और आलोचना
    २५-हिंदी ब्लागिंग और साइबर ला
    २६-हिंदी ब्लागिंग और आचार संहिता का प्रश्न
    २७-हिंदी ब्लागिंग के लिए निर्धारित मूल्यों क़ी आवश्यकता
    २८-हिंदी और भारतीय भाषाओं में ब्लागिंग का तुलनात्मक अध्ययन
    २९-अंग्रेजी के मुकाबले हिंदी ब्लागिंग क़ी वर्तमान स्थिति

    ३०-हिंदी साहित्य और भाषा पर ब्लागिंग का प्रभाव

    ३१- हिंदी ब्लागिंग के माध्यम से रोजगार क़ी संभावनाएं
    ३२- हिंदी ब्लागिंग से सम्बंधित गजेट /स्वाफ्ट वयेर


    ३३- हिंदी ब्लाग्स पर उपलब्ध जानकारी कितनी विश्वसनीय ?

    ३४-हिंदी ब्लागिंग : एक प्रोद्योगिकी सापेक्ष विकास यात्रा

    ३५- डायरी विधा बनाम हिंदी ब्लागिंग

    ३६-हिंदी ब्लागिंग और व्यक्तिगत पत्रकारिता

    ३७-वेब पत्रकारिता में हिंदी ब्लागिंग का स्थान

    ३८- पत्रकारिता और ब्लागिंग का सम्बन्ध
    ३९- क्या ब्लागिंग को साहित्यिक विधा माना जा सकता है ?
    ४०-सामाजिक सरोकारों से जुड़े हिंदी ब्लाग

    ४१-हिंदी ब्लागिंग और प्रवासी भारतीय


    आप के सहयोग क़ी आवश्यकता है .



    डॉ. मनीष कुमार मिश्रा
    हिंदी विभाग के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय

    गांधारी विलेज , पडघा रोड
    कल्याण -पश्चिम, ,जिला-ठाणे
    pin.421301

    महाराष्ट्र
    mo-09324790726
    manishmuntazir@gmail.com
    http://www.onlinehindijournal.blogspot.com/
    http://kmagrawalcollege.org/

    September 10, 2011 12:28 PM

    ReplyDelete

Blog Hit Counter

Shahid Kapoor Photos Wallpapers

Blog Widget by LinkWithin

ShareThis